OPINION

क्या हैं पिंक बूथ और क्यों हैं इतने खास !

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक पार्टियों संग चुनाव आयोग ने भी अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं। इस बार कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कई खास बात होगी, जिसमें वहां 600 पिंक बूथों का निर्माण है। इसके साथ ही वहां इस बार चुनाव में ईवीएम के साथ वीवीपीएटी का इस्तेमाल किया जाएगा। कर्नाटक के मुख्य निर्वाचन अधिकारी संजीव कुमार ने ...

Read More »

कबूतरी के बाद क्या हैं उत्तराखंड के लोकगायन की चुनौतियां?

(भारत सिंह) : उत्तराखंड की लोकगायिका कबूतरी देवी ने अपने संघर्षपूर्ण जीवन में हमेशा वहां लोक को आवाज दी. उनके गायन के इस पहलू पर भी बहस की जानी चाहिए कि वह अपने समाज को किस हद तक बदलता है. यह भी देखना होगा कि कबूतरी के निधन के बाद उत्तराखंड की लोककलाएं किस तरह से वैश्वीकरण की चुनौतियां का सामना ...

Read More »

अब आप के कंप्यूटर और गजैट्स पर सरकार की खुफिया निगाहें

केंद्र सरकार ने किसी भी नागरिक के कंप्यूटर और इलेक्ट्रोनिक गजैट्स की जासूसी करने का आदेश जारी कर दिया है. इस से आप की प्राइवेसी पर खतरा हो गया है. 20 दिसंबर को गृह मंत्रालय ने एक आदेश जारी कर देश की 10 प्रमुख सुरक्षा एजेंसियों को देश में मौजूद किसी भी कंप्यूटर की निगरानी का अधिकार दे दिया है. ...

Read More »

कैसे 20 रूपये की शीशी लेकर किसान कमाने लगे लाखों

एक सफ़ेद रंग की छोटी-सी 20 रूपये की शीशी आज किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। यह शीशी है ‘वेस्ट डीकम्पोज़र’ की। वेस्ट डीकम्पोज़र का अर्थ है कचरे को गला-सड़ा कर अपघटित करना। इस ‘वेस्ट डीकम्पोज़र’ की मदद से किसान खेतों की उर्वरकता बढ़ा सकते हैं और साथ ही जैविक खाद बना सकते हैं। उन्हें अब फसल के बाद बचने ...

Read More »

2018 में भारत में हुए ये 15 महत्वपूर्ण खोज

वर्ष 2018 में भारतीय वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों ने अंतरिक्ष और रक्षा क्षेत्र से जुड़े विभिन्न अभियानों में कई अभूतपूर्व सफलताएं हासिल की हैं। लेकिन, वर्ष 2018 की वैज्ञानिक उपलब्धियां महज यहीं तक सीमित नहीं रही हैं। अंतरिक्ष एवं रक्षा क्षेत्र के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी भारतीय वैज्ञानिकों ने कई उल्लेखनीय शोध किए हैं। नैनोटेक्नोलॉजी से लेकर अंतरिक्ष मौसम विज्ञान ...

Read More »

महज़ 75 परिवारों के गाँव में हैं सिर्फ IAS या IPS अफ़सर

उत्तर-प्रदेश के जौनपुर जिले के माधोपट्टी गाँव का नाम किसी आम नागरिक ने सुना हो या नहीं लेकिन इस गाँव का नाम प्रशासनिक गलियारों में हर बार सुर्ख़ियों में रहता है। इसके पीछे एक ख़ास वजह है। कहा जाता है कि इस गाँव में सिर्फ प्रशासनिक अधिकारी ही जन्म लेते हैं। पूरे जिले में इसे अफ़सरों वाला गाँव कहते हैं। इस ...

Read More »

उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग ही क्यों बनते हैं निशाना?

”बिहार के ज्यादातर लोग बहुत प्रतिभाशाली होते हैं, सरकारी नौकरियों विशेष रूप से यूपीएससी में इन्हीं का बोलबाला होता है तो दूसरे राज्यों में इन्हें प्रतिस्पर्धा के तौर पर देखा जाता है। ऊपर से एक धारणा यही होती है कि जिस भी राज्य में जाएंगे, वहां बेहतर प्रदर्शन ही करेंगे। इस तरह से भी निशाने पर रहते हैं।” मध्य प्रदेश ...

Read More »

बीड़ी पीने से देश को सालाना 80 हजार करोड़ का नुकसान!

बीड़ी पीने से देश को करीब 80 हजार करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ता है. टोबैको कंट्रोल नामक जर्नल में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक, बीड़ी से स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचता है और लोगों को समय से पहले मौत का सामना करना पड़ता है. आईएएनएस के मुताबिक, बीड़ी से होने वाला नुकसान देश में स्वास्थ्य पर होने वाले कुल खर्च का ...

Read More »

देहरादून नगर निगम में सरकारी जमीनों की बंदरबांट का खेल

देहरादून । नगर निगम में शामिल किए गए 72 गांवों में इन दिनों जमकर सरकारी जमीनों की बंदरबांट का खेल चल रहा है। स्थिति यह है कि अभी तक एक भी पूर्व प्रधान ने ग्राम सभा का बस्ता नगर निगम में जमा नहीं कराया। नियमानुसार ये बस्ते उसी समय कलेक्ट्रेट या नगर निगम में जमा हो जाने चाहिए थे, जब ...

Read More »

पर्यावरण के लिए कितना ख़तरनाक है सीमेंट का इस्तेमाल

सीमेंट अस्तित्व में मौजूद सबसे ज़्यादा इस्तेमाल होने वाली मानव निर्मित धातुओं में से एक है. यह इस ग्रह पर पानी के बाद सबसे अधिक खपत वाला संसाधन है. सीमेंट कंक्रीट का मुख्य घटक है. इसके जरिए कई निर्माणों को मू्र्त रूप दिया गया है. लेकिन, ये कार्बन उत्सर्जन के प्रमुख कारकों में से एक है. थिंक टैंक चैटम हाउस के मुताबिक ...

Read More »

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful