कर्ज से तंग आकर मेरठ के कारोबारी ने हरिद्वार में की खुदकुशी

हरिद्वार: कर्ज से परेशान मेरठ के एक चमड़ा कारोबारी ने उत्तरी हरिद्वार की एक धर्मशाला में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। कमरे से सुसाइड नोट भी मिला है। जिसमें लिखा गया है कि कृपया माफ करना भाइयों, मैं आपका पैसा नहीं लौटा पाया।’ पुलिस की सूचना पर परिजन रविवार दोपहर मेरठ से हरिद्वार पहुंच गए। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।

पुलिस के मुताबिक उत्तरी हरिद्वार की शांति निकेतन धर्मशाला में शनिवार को शास्त्रीनगर मेरठ निवासी लज्जाराम सागर पुत्र गंगा दास ने कमरा लिया था। आधार कार्ड जमा करते हुए धर्मशाला कर्मचारियों ने उसे कमरा नंबर 110 में ठहराया था। रविवार सुबह कमरे का दरवाजा नहीं खुला। कर्मचारियों ने दरवाजे पर दस्तक दी पर अंदर कोई हलचल नहीं हुई। तब धर्मशाला कर्मचारियों को अनहोनी का शक हुआ और उन्होंने नजदीक की सप्तऋषि पुलिस चौकी पर पहुंचकर सूचना दी।

चौकी प्रभारी पवन डिमरी ने धर्मशाला कर्मचारियों की मदद से दरवाजा तुड़वाया तो फांसी पर चादर के सहारे शव लटका देख सबके होश उड़ गए। पुलिस ने शव को नीचे उतरवाया और उसकी शिनाख्त 47 वर्षीय लज्जाराम के रूप में की। कमरे की तलाशी लेने पर एक सुसाइड नोट बरामद हुआ। जिसमें लिखा गया था कि कृपया माफ करना भाइयों, मैं आपका पैसा नहीं लौटा पाया।

पुलिस ने लज्जाराम के परिजनों को सूचना दी। रविवार दोपहर तक परिजन हरिद्वार पहुंच गए। उन्होंने पुलिस को बताया कि लज्जाराम का मेरठ में चमड़े का कारोबार था। पिछले करीब एक साल से कारोबार मंदा चल रहा था। जिस कारण उसके सिर पर कुछ लोगों का कर्ज हो गया। कुछ दिन से वह मानसिक रूप से भी परेशान थे। माना जा रहा है कि शायद इसी कारण उन्होंने खुदकुशी की है। कार्यवाहक कोतवाली प्रभारी डीएस रावत ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम कराया गया है। सुसाइड नोट के आधार पर कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या की बात सामने आ रही है।

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful