DRDO बनाएगा संजीवनी, लेह की प्रयोगशाला में गोभी और कद्दू ‘बम’

डिफेंस रिसर्च डेवलपमेंट एंड ऑर्गेनाइजेशन (डीआरडीओ) जोकि देश की सुरक्षा व्यवस्था के लिए आधुनिक तकनीक के प्रयोग के लिया जाना जाता है, लेकिन अब हिमालय की गोद में यही डीआरडीओ भारतीय फौज के लिए संजीवनी की खोज कर रहा है. डीआरडीओ ने ऐसी तकनीक इजात की है जिसमें हड्डियां गला देने वाली ठंड में भी सब्जियां उगाई जा सकेगी. इस तकनीक से न सिर्फ सरहद पर तैनात सैनिकों की मदद की जा सकेगी साथ ही किसानों की आय बढ़ाने में भी मदद मिलेगी.

लेह स्थित डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ हाई ऐल्टिट्यूड रिसर्च यानि डीआईएचएआर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जय जवान- जय किसान, जय विज्ञान के साथ जय अनुसंधान के नारे को एक कदम आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान लद्दाख की इसी ऑर्गेनिक प्रयोगशाला का जिक्र किया था.

सियाचिन में हजारों फीट ऊंचाई पर मुश्किल भरे हालात में सैनिकों को रसद के साथ-साथ बेहतर खुराक मिले इसके लिए भी डीआरडीओ के वैज्ञानिकों ने बिना मिट्टी के पालक और टमाटर की पौष्टिक पैदावार के लिए तकनीक इजाद की है. डीआरडीओ की हरित क्रांति प्रयोगशाला में फूल गोभी पत्ता गोभी और दूसरी ऐसी कई सब्जियां उगाई जा रही हैं जिनके पीछे आधुनिक तकनीक सैनिकों की जरूरत और लद्दाख के किसानों कि बेहतर आय को लक्ष्य रखा गया है. इस तकनीक के जरिए किसानों को सुविधाएं दे रहा है जिससे उनकी आय लगभग 5 गुना बढ़ रही है.

लेह स्थित डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ हाई ऐल्टिट्यूड रिसर्च यानि डीआईएचएआर के निदेशक ओपी चौरसिया का कहना है, ‘इस प्रयोगशाला में बिना मिट्टी के कम जगह में खेती कैसे हो और ऊंचे पहाड़ों पर तैनात सैनिकों को हरी सब्जियां कैसे मिले उसके लिए हमने नई तकनीक को विकसित किया है. इस तकनीक मे प्लास्टिक की छोटी-छोटी पाइपों में सब्जियों के बीज से पौधे तैयार होते हैं.  ओपी चौरसिया का कहना है कि दुर्गम परिस्थितियों में भी इस तकनीक के जरिए फसल मैं 30 दिन में तैयार हो जाती है जबकि आमतौर पर ऐसी फसलों को तैयार होने में 45 दिन लगते हैं.

डीआरडीओ की ग्रीन लेबोरेटरी में कई फसलों पर रिसर्च की जा रही है. ऐसी ही पश्चिमी देशों में मिलने वाली जुकिनी नामक सब्जी को भी उगाया जाता है. आमतौर पर यह सब्जी पश्चिमी देशों में खाने का प्रमुख हिस्सा है. प्रयोगशाला में उगाए जा रहे जुकिनी का आकार और चमक भारत के बाजारों में मिलने वाले जुकिनी से कहीं बेहतर है. इतना ही नहीं डीआरडीओ की इस प्रयोगशाला में कद्दू बम तो हैरतअंगेज है.

आमतौर पर बाजार में मिलने वाले कद्दू का वजन 14 से 15 किलो हो सकता है लेकिन डीआरडीओ की इस प्रयोगशाला में उगने वाले कद्दू का वजन 40 से 50 किलो तक हो सकता है. बॉटनी विभाग की डॉक्टर दोरजी आंचुक ने आज तक को बताया, ‘लेह जैसे सफेद रेगिस्तान में जहां सर्दियों में तापमान -25 के नीचे चला जाता है वहां ऐसी सब्जियां उगाना अपने आप में चुनौती है लेकिन जमीन के नीचे प्लास्टिक और दूसरी तकनीकों के जरिए हम यहां पर सब्जियां उगा रहे हैं.’

उनका कहना है कि हम यही तकनीक लद्दाख के किसानों को भी दे रहे हैं ताकि वह पैदावार बढ़ा सकें और फसल सीधे-सीधे आज उनसे खरीद सके.’  डॉक्टर दोरजी का कहना है इस प्रयोगशाला में उगने वाले कद्दू का वजन 40 से 50 किलो तक हो सकता है.

डीआरडीओ ने फ्रूट लेबोरेटरी भी बनाई हैं. इस लेबोरेटरी में सेब और खुमानी के पेड़ भी उगाए गए हैं. डीआरडीओ की इस प्रयोगशाला में खुमानी कि वह फसल तैयार की गई है जिसने गिलगित के स्वाद को भी पीछे छोड़ दिया है. वैज्ञानिकों ने यहां की खुमानी को बाकायदा पेटेंट कराया है. डीआईएचएआर के वैज्ञानिक डॉक्टर सेरिंग का कहना है कि फलों की यह फसल दुनिया में सबसे बेहतर है और ऐसी खुमानी का स्वाद कहीं और नहीं मिलेगा.

इतना ही नहीं इस प्रयोगशाला में तरबूज बम भी बनाया है. इसमें हैरत वाली बात इसलिए है क्योंकि लद्दाख सफेद रेगिस्तान के नाम से जाना जाता है जहां साल भर मौसम ठंडा होता है और तरबूज ज्यदातर नदियों के किनारे पाया जाता है.

वैज्ञानिक डॉक्टर से रिंग का कहना है यहां की तकनीक उन किसानों को देते हैं जिससे मैदानी इलाकों में किसान जहां एक हेक्टेयर में डेढ़ लाख रुपए कमाते हैं वहीं लद्दाख में इस फसल से 10 से 12 लाख रुपए कमा सकते हैं.

डीआरडीओ की इस प्रयोगशाला में सबसे चमत्कारी प्रयोग जो विषम परिस्थितियों में भारतीय सेना की ताकत बनेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख के मसले पर अपनी बात कहते हुए संजीवनी का जिक्र किया था. लेह में मौजूद डीआरडीओ की इस ग्रीन लेबोरेटरी में सोलो नामक एक वनस्पति पर शोध किया जा रहा है जिस के गुण रामायण में जिक्र किए गए संजीवनी से मिलते जुलते हैं.

इस वनस्पति को लद्दाखी भाषा में सोनू कहा जाता है और जिस का वैज्ञानिक नाम रेडियोला है. रेडियोला का मतलब जिस पर रेडिएशन भी काम नहीं करता और जो रेडिएशन और कैंसर जैसी बीमारियों को दूर भगा सकता है. रेडियो लेह का यह पौधा 18000 फीट से ऊंची हिमालय की गोद में पाया जाता है. लद्दाख में भी यह वनस्पति खारदुंगला पास से ऊंची पहाड़ियों पर मिलती है लेकिन यह बेहद दुर्लभ है.

डीआरडीओ की प्रयोगशाला के निदेशक डॉक्टर ओपी चौरसिया का कहना है, ‘इस वनस्पति में शारीरिक क्षमता को बढ़ाने हाई एल्टीट्यूड सिकनेस से निपटने रेडिएशन और कैंसर से लड़ने समेत हर बीमारियों से लड़ने की क्षमता है.अगर सियाचिन जैसे पहाड़ों में बैठे हमारे फौजियों को सोनू वनस्पति से बनी दवाई मिले तो उनकी क्षमता कई गुना ज्यादा बढ़ जाएगी.’

डीआरडीओ का कहना है कि इस वनस्पति पर शोध के बाद जल्दी ही दवाएं तैयार हो जाएंगी जो भारतीय फौज को दी जाएंगी. डॉक्टर चौरसिया के मुताबिक इस दवा के गुण रामायण काल में जिक्र संजीवनी से मिलते जुलते हैं.

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful