जन्नत’ को जहन्नुम बना रहा सरहद पार से आया नशा

कुदरत ने बड़ी फुरसत से इस जन्नत को बनाया था. इसे पहाड़ों, दरख्तों और झरनों से सजाया था. मगर इस जन्नत पर सरहद के उसपार के लोगों ने नज़रें गड़ा रखी हैं. इसे जहन्नम बनाने के लिए वो उस पार से कभी बम, कभी बारूद, कभी जल्लाद भेजा करते थे. लेकिन तब भी जब वो इस खूबसूरती पे नज़र न लगा सके. तो अब उन्होंने उस पार से पाउडर, टेबलेट और इंजेक्शन भेजने शुरू कर दिए ताकि इस जन्नत के ज़र्रे ज़र्रे को वो कैंसर की तरह वो इस जन्नत के बाशिंदों को अपने नशे के जाल में जकड़ लें.

जब दिलो दिगाम बस उसी के सुरूर में हो. जब उसके बिना एक लम्हा भी कयामत लगने लगे. जब उसकी लत ज़िंदगी बन जाए. जब वो ना हो तो मौत नज़र आए. जब ऐसा हो…जब ऐसा तो समझ लीजिए आप नशे में हैं. नशा इन नीले नीले ज़मज़म का. मदहोशी एक एक करके करीने की तरह पहाड़ों पर सजाए गए इन दरख्तों की. पानी पर तैरते इन शिकारों की. जंगलों पर साया किए हुए इन चिनारों की. बस.. यहीं ठहर जाइये.. थम जाइये. आगे ना बढ़िए. क्योंकि रुह को इत्मिनान देने वाले सुरूर. मदहोशी और नशे का अहसास बस यहीं तक है. इसके आगे इस जन्नत में कई जगह जहन्नम का दरवाज़ा खुलता है. जहां से जहरीली हवाएं आती हैं. मगर इस जन्नत में जहन्नम की हवा घोला किसने. कौन हैं वो जो इस फ़िरदौस से फरामोशी कर रहा है.

अगर फ़िरदौस बर-रू-ए-ज़मीं अस्त

हमीं अस्त ओ हमीं अस्त ओ हमीं अस्त

ज़मीन पर ही जन्नत देखनी है तो वो यही है. यानी इसे ज़मीन का जन्नत कहा गया है. मगर इस जन्नत का एक नशा और भी है. पहले पंजाब और अब जम्मू कश्मीर. सरहद पार यानी पाकिस्तान से आनेवाली नशे की खेप अब यहां के लोगों की रगों में ज़हर घोलने लगी है. नौजवानों के साथ-साथ महिलाएं भी नशे की आदी हो रही हैं. सवाल ये है कि इससे पहले कि हालात पूरी तरह से बेक़ाबू हो जाएं, क्या जम्मू-कश्मीर को बर्बाद होने से बचाया जा सकता है?

खूबसूरत वादियों और पहाड़ों से घिरे जम्मू कश्मीर सूबे में हालत कितनी ख़तरनाक है, ये ग्राउंड ज़ीरो में पहुंच कर ही समझा जा सकता है. सैकड़ों लोग नशे के शिकार हैं. और इस नशे का एक बड़ा हिस्सा पाकिस्तान से तस्करी कर यहां तक लाया जाता है.

जम्मू-कश्मीर की ये चौंकानेवाली हक़ीक़त का पता करने के लिए आजतक की टीम राजधानी दिल्ली से छह सौ किलोमीटर दूर इस पहाड़ी कस्बे उधमपुर आ पहुंची है. भीड़ भरे बाज़ार, घनी बस्तियों और रिहायशी इलाक़ों के बीच हम इस बात की टोह लेना चाहते हैं कि आख़िर नशीली चीज़ें यहां लोगों को किस तरह आहिस्ता-आहिस्तान बीमार कर रही है.

महज़ 23 साल के एक लड़के की कहानी भी हैरान करने वाली है. क्या आप यकीन करेंगे कि वो लड़का हेरोइन जैसी ख़तरनाक ड्रग का आदी है और अब नशे की जाल से बाहर आने की कोशिश कर रहा है?

इस नौजवान की कहानी अपने-आप में बेचैन तो करती है. पर ये बेचैनी तब और बढ़ जाती है, जब आपको पता चलता है कि इस नौजवान का बड़ा भाई भी पिछले दस सालों से नशे की ज़द में हैं. कई लोग वहां सालों से ड्रग्स ले रहे हैं.

ये नशा दिलो-दिमाग़ पर कैसे और किस तरह हावी होता है, ये बस इसी बात से समझा जा सकता है कि वो नशे की एक छोटी सी खुराक के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार रहता है. किसी भी हद तक मतलब किसी भी हद तक! उसी की मानें तो उसने इससे बाहर आने की कोशिश भी की, लेकिन आस-पास के इलाक़े में घूमते ड्रग पैडलर्स यानी नशे के सौदागर उसे ऐसा करने नहीं देते.

वो अपने नशे की इस आदत से परेशान तो है, लेकिन खुद अपने और अपने जैसे दूसरों की इस परेशानी को देखते हुए हमसे बात करने को तैयार हो जाता है. लेकिन इस शर्त के साथ कि हम उसकी पहचान ज़ाहिर नहीं होने देंगे. वो कहता है कि उसे समाज में अपनी बेइज़्ज़ती का भी डर है और नशे के सौदागरों से ख़तरा भी है.

लेकिन यहां बात सिर्फ़ एकाध-लोगों की नहीं, पूरे के पूरे परिवार की है. नशे की बीमारी ने जम्मू-कश्मीर में कई परिवारों को बर्बाद कर दिया है. अब एक पिता के बारे में जानिए. एक बार नशे की चपेट में आने के बाद इससे बाहर निकलना कितना मुश्किल है, ये इनसे बेहतर शायद ही कोई बता सकता है. नशे से पार पाने की कोशिश में इन्होंने डॉक्टरों की मदद तो ली, लेकिन इलाज का कोई ख़ास नतीजा नहीं निकला, उल्टा ज़िंदगी भर की कमाई दवाओं में निकल गई. 70 लाख रुपये से ज़्यादा का फैमिली बिज़नेस तबाह हो गया.

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful