मोदी सरकार 2.O की उपलब्धियां और आकांक्षाएं

नई दिल्ली :  भारत के प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ने 30 मई, 2019 को शपथ ग्रहण के साथ अपने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत शुरू की थी, जिसका पहला वर्ष आज पूरा हो रहा है. इस कार्यकाल का पहला वर्ष ऐसे समय पूर्ण हो रहा है, जब दुनिया के अन्य देशों के साथ भारत भी कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी से जूझ रहा है. इस संकट काल ने देश की अर्थव्यवस्था को गहरा आघात दिया है और लाखों-करोड़ों लोग बेरोजगार हो चुके हैं. विपक्षी दल भी अन्यान्य मुद्दों को लेकर केंद्र सरकार को लगातार घेरते रहे हैं. फिलहाल मोदी सरकार 2.0 के लिए यह उपलब्धियां गिनाने का दिन है.

आइए जानते हैं मोदी सरकार 2.O की उपलब्धियों और आकांक्षाओं के बारे में:-

अनुच्छेद 370
नरेंद्र मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य देने वाले अनुच्छेद 370 को निरस्त कर दिया और अगस्त, 2019 में राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों- जम्मू और कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया.

सैनिकों का कल्याण
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने युद्ध के हताहतों के परिजनों को मौद्रिक सहायता बढ़ाने के लिए सैद्धांतिक स्वीकृति दी. सैनिकों के परिजनों के लिए युद्ध दुर्घटना कोष के तहत मौजूदा राशि दो लाख से बढ़ाकर आठ लाख रुपये कर दिया गया. सीआरपीएफ जवानों को छह महीने के लिए मासिक राशन भत्ता नहीं मिलने की सूचना मिली थी. प्रधान रक्षा नियंत्रक (पेंशन) द्वारा विभिन्न बैंकों को एक परिपत्र जारी किया गया था, जिसमें उन्हें जून 2019 में विकलांग सैनिकों के पेंशन से आयकर में कटौती करने के लिए कहा गया था.

किसान की आय दोगुनी करने का लक्ष्य

किसानों की आय दोगुनी करने (डीएफआई) से संबंधित मुद्दों की जांच करने और रणनीतियों की सिफारिश करने के लिए अंतर-मंत्रिस्तरीय समिति ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए आय के सात स्रोतों की पहचान की थी. लगभग 10,000 किसान उत्पादक संगठन और मत्स्य पालन में 500 एफपीओ को बढ़ावा दिया जा रहा है. मॉडल भूमि लीज अधिनियम, 2016, मॉडल एपीएलएमसी (कृषि उपज और पशुधन बाजार समिति) अधिनियम, 2017, मॉडल अनुबंध खेती और सेवा अधिनियम, 2018 में लाया गया है.  इसके अलावा कृषि और संबद्ध मंत्रालयों के प्रमुख प्रभागों को फिर से व्यवस्थित किया जा रहा है. 99 सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने के प्रयास जारी हैं, जिसमें सात करोड़ 86 लाख हेक्टेयर भूमि शामिल है.

सरकार ने 151 सूखाग्रस्त जिलों के ढाई लाख प्रभावित किसानों को 25 लाख हेक्टेयर भूमि में जैविक खेती को बढ़ावा दिया है. छोटे और सीमांत किसानों की मदद के लिए, सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि शुरू की थी. इसके माध्यम से 8.52 करोड़ से अधिक किसानों को कुल 62,469 करोड़ मिले. मत्स्य उद्योग से संबंधित बुनियादी ढांचा विकसित करने के लिए एक विशेष कोष बनाया गया है.

भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हो
जीएसटी का सरलीकरण अब भी इंतजार कर रहा है क्योंकि जीएसटी काउंसिल की हर बैठक के बाद तारीख बढ़ा दी जाती है. ऑटोमोबाइल सेक्टर अब भी मेक इन इंडिया के प्रवेश का इंतजार कर रहा है. भारत सरकार ने बजट 2020 में अतिरिक्त सीमा शुल्क, फेस-लिफ्टिंग व्यक्तिगत आयकर कानूनों को लागू करने और बुनियादी ढांचे और अधिसूचित क्षेत्रों में निवेश को प्रोत्साहित करके मेक इन इंडिया पहल को बढ़ावा देने की योजना बनाई है.

मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने इसे और अधिक पारदर्शी और जवाबदेह बनाने के लिए जीएसटी लागू किया है. इसके अलावा, डिजिटलीकरण की पहल ने, जो मेक इन इंडिया का हिस्सा है, प्रक्रियाओं को अधिक पारदर्शी करने में मदद की है. साथ ही मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए कुछ क्षेत्रों पर सीमा शुल्क बढ़ा दिया गया है.

भाजपा सरकार ने भारत को एक विनिर्माण केंद्र बनाने का वादा किया था. 20 मई 2020 को, भारतीय रेलवे ने अपने पहले 12,000 hp इलेक्ट्रिक लोको को फ्रेंच पार्टनर एल्सटॉम और भारत रेलवे द्वारा स्थानीय रूप से निर्मित किया.

एमएसएमई को बढ़ावा
देश के सकल घरेलू उत्पाद में एमएसएमई के योगदान को बढ़ाने की योजना के तहत मई 2020 में इसे नए तरीके से परिभाषित किया गया है.

कोविड लॉकडाउन के कारण नकदी प्रवाह से प्रभावित छोटे उद्यमों के लिए प्रारंभिक धन के रूप में कार्य करना भी स्वीकार किया गया है. मध्यम एवं सूक्ष्म उद्योग मंत्रालय ने मुद्रा इकाइयों के विस्तार या उन्नयन में मदद करने के लिए वित्तीय सहायता की एक योजना भी शुरू की है. उद्योग और आंतरिक व्यापार (DPIIT) के प्रचार के लिए विभाग ने एक फरवरी, 2020 तक 27,916 स्टार्टअप्स को मान्यता दी है.

स्टार्टअप्स में निवेश करने के लिए सरकार ने दस हजार करोड़ रुपये का फंड स्थापित किया है. वर्तमान में यह भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (SIDBI) द्वारा प्रबंधित किया जा रहा है. सरकार ने यह भी कहा है कि कुल फंड का 10% हिस्सा महिला उद्यमियों के लिए आरक्षित किया गया है. पर्यटन मंत्रालय ने प्रतिष्ठित पर्यटक स्थलों के रूप में विकास के लिए देश के 12 समूहों में 17 स्थलों की पहचान की.

आधारभूत संरचना
जल जीवन मिशन- प्रधानमंत्री ने 25 दिसंबर को इस योजना को लेकर दिशानिर्देश जारी किया था. उन्होंने घरों में पाइप्ड पानी लाने के लिए आने वाले वर्षों में 3.5 लाख करोड़ रुपये खर्च किए. केंद्रीय इस्पात मंत्री ने घोषणा की कि भारत अगले पांच वर्षों में अपने बुनियादी ढांचे के विकास के लिए 1.4 ट्रिलियन डॉलर खर्च करेगा.

सरकार ने राष्ट्रीय अवसंरचना पाइपलाइन (एनआईपी) एक विस्तृत क्षेत्र-दर-क्षेत्र अध्ययन और वित्त वर्ष 25 तक 102 लाख करोड़ रुपये की बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का संकलन जारी किया है.

हवाई अड्डों के निजीकरण की गति बढ़ रही है. छह हवाई अड्डों का पहले ही निजीकरण हो चुका है और नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने कहा है कि छह और एयरपोर्ट का निजीकरण जल्द ही किया जाएगा. इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, अडानी गैस, एचपीसीएल ने प्राकृतिक गैस वितरित करने के लिए बोलियां जीती हैं और अधिकतर शहरों में घरों तक गैस पहुंचाई जाएगी.

मुंबई-नागपुर सुपर एक्सप्रेसवे को बैंकों से 28,000 करोड़ रुपये की पूरी धनराशि मिली और इस पर काम चल रहा है. दुनियाभर में स्मार्ट सिटी पहल के बारे में ज्ञान और वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं के आदान-प्रदान के लिए एक मंच के रूप में कार्य करने के लिए गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक-सिटी में एक नया स्मार्ट सिटी सेंटर शुरू किया गया है. सरकार की डिजिटल इंडिया पहल के अनुसार सॉफ्टवेयर टेक्नोलाॅजी पार्क ऑफ इंडिया (एसटीपीआई) अगले स्तर की प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने के लिए देशभर में कई ‘सेंटर ऑफ एक्सीलेंस’ (सीओई) बनाने के लिए तैयार है. इसमें कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई), मशीन लर्निंग (एमएल), रोबोटिक्स, आभासी वास्तविकता और संवर्धित वास्तविकता शामिल हैं.

नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा को मान्यता दी गई है. उसने उत्तर प्रदेश के चुनार शहर के लिए धनराशि स्वीकृत की है, जो कि अपनी निधि के माध्यम से पहला FSTP है. मल कीचड़ प्रबंधन ग्रामीण और शहरी तथा गैर-सीवरहित क्षेत्रों में अपशिष्ट जल के पुन: उपयोग पर जोर देने के माध्यम से तरल अपशिष्ट पदार्थ का निबटान किया जा सके. एशियाई विकास बैंक (ADB) और भारत सरकार ने छत्तीसगढ़ में राज्य राजमार्गों और प्रमुख जिला सड़कों के लगभग 850 किलोमीटर (किमी) के विकास के लिए साढ़े तीन सौ करोड़ के ऋण पर हस्ताक्षर किया है.

मंत्रिमंडल ने हाल ही में देशभर में राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल 780 किलोमीटर लंबाई के उन्नयन कार्यों को मंजूरी दी है. मेगा रोडवेज इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत 7660 करोड़ रुपये से अधिक है. ग्रामीण सड़क संपर्क को अभी विकसित किया जाना बाकी है. सरकार ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए 2020-21 में भारत नेट कार्यक्रम के लिए 6,000 करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे. हालांकि, जमीन पर देखा जा सकता है कोविड लॉकडाउन के कारण डिजिटल कक्षाओं में समस्या है. बच्चे इंटरनेट कनेक्टिविटी की कमी के कारण परेशानियों का सामना कर रहे हैं.

स्वस्थ भारत
केंद्रीय बजट 2020-21 में स्वास्थ्य सेवा आवंटन पिछले वर्ष के 63,830 करोड़ रुपये के मुकाबले इस साल बढ़ा है. यह 5.7 प्रतिशत की मामूली वृद्धि के साथ 67,484 करोड़ रुपये हो गया और यह सकल घरेलू उत्पाद का 2.5 प्रतिशत खर्च करने के लक्ष्य से कम है. 2025 तक टीबी के उन्मूलन की घोषणा पर टीयर 2 और 3 शहरों में अस्पतालों में कमी है. बजट में आम आदमी के लिए 112 जिलों में प्रायोगिक तौर पर आयुष्मान भारत के तहत पीपीपी मॉडल अस्पतालों की आवश्यकता को पूरा करने के लिए जनऔषधि स्टोरों के माध्यम से 2,000 आवश्यक दवाएं उपलब्ध हैं. सरकार की आवश्यक सार्वजनिक उपयोगिता सेवा प्रदाता कॉमन सर्विस सेंटर (CSCs) ने अक्टूबर 2019 में ग्रामीण क्षेत्रों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष मंत्रालय के साथ मिलकर टेलीमेडिसिन सेवाओं की व्यवस्था की घोषणा की.

कोविड महामारी के समय ने स्वास्थ्य की बुनियादी ढांचे की स्थिति की कमी को उजागर किया है. कई सरकारी अस्पतालों में वेंटिलेटर या एक्स-रे मशीनों का अभाव है. स्वास्थ्य के क्षेत्र में ग्रामीण मशीनरी ने अच्छा कार्य किया है, जब तक कि केस की संख्या कम थी.

टीबी का खात्मा
इस उद्देश्य के लिए वित्त वर्ष 2016-17 के बजट 640 करोड़ को बढ़ाकर 2018-19 में 2840 करोड़ फंड जारी किया गया. जनवरी 2020 में कार्यक्रम का नाम राष्ट्रीय टीबी नियंत्रण कार्यक्रम से बदलकर राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम कर दिया गया. सरकार की योजना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में ट्रूनेट एमटीबी प्रदान करने और पीएचसी तक विस्तारित करने की है. गोवा स्थित निर्माता से सीधे डायग्नोस्टिक मशीन खरीदने की योजना केंद्र सरकार की है. माइक्रोस्कोपी केंद्रों के लिए 1,500 मशीनों की खरीद अभी प्रक्रिया में है.

सुशासन
एक साथ चुनावों का वादा पूरा होना बाकी है. एकल मतदाता सूची बनायी जानी शेष है. गैर-सरकारी भ्रष्टाचार विरोधी निगरानी संस्था ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडिया के एक सर्वेक्षण के अनुसार, 2019 में 56% की तुलना में 2019 में रिश्वत देने का प्रतिशत 51% है. ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल के अनुसार, भ्रष्टाचार के मामले में 180 देशों में भारत 78वें रैंक पर है. इसके अलावा 100 के स्कोर में भारत को 41 अंक मिले, जहां 0 अत्यधिक भ्रष्ट है और 100 का मतलब भ्रष्टाचारमुक्त है. भारत 43 अंकों के वैश्विक औसत से भी नीचे है.

प्रदूषण और पर्यावरण
केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय ने संसद के पैनल को बताया है कि प्रदूषण की जांच करने के प्रयास प्रभावित होंगे, क्योंकि उसे वार्षिक बजट में मांग की तुलना में 30% कम धन प्राप्त हुआ है. हिमालय की रक्षा के लिए राज्यों को ग्रीन बोनस देने का वादा किया गया था, जहां 11 राज्यों ने उन्हें प्राप्त करने की मांग की थी. हालांकि तब से परियोजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है और बजट में इसके लिए कुछ भी उल्लेख नहीं किया गया है.

पूर्वोत्तर राज्यों का विकास
पूर्वोत्तर राज्यों के लिए 1232 करोड़ रुपये की 49 विकास परियोजनाओं (निर्माण, सड़कों, पुलों के नवीनीकरण और पर्यटन स्थलों के उन्नयन) को मंजूरी दी गई है.

युवा भारत – कल का भारत
युवाओं के लिए करिअर के अवसर- 2019 के बाद से सरकार ने सूक्ष्म-उद्यम क्षेत्र में 1.65 करोड़ व्यक्तियों को पैसा दिया है. इसमें 1.9 करोड़ महिला उद्यमी शामिल हैं और इसमें 67 प्रतिशत से अधिक नए व्यवसाय नेटवर्क हैं. अब तक केंद्र ने युवा आबादी को अपना व्यवसाय शुरू करने और अर्थव्यवस्था और रोजगार में योगदान हेतु प्रोत्साहित करने के लिए 85,000 करोड़ रुपये जारी किये हैं. कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के एक बयान के अनुसार केंद्र सरकार के विभिन्न कार्यक्रमों के तहत सालाना एक करोड़ से अधिक युवाओं को कौशल प्रशिक्षण दिया जा रहा है.

यूथ इन गवर्नेंस
इसके तहत कुछ भी नहीं किया गया है. खेल में फिट इंडिया मूवमेंट को आगे बढ़ाने के लिए और 1 नवंबर 2019 से देशभर के सभी खिलाड़ियों के लिए, बिना शुल्क, खेल के मैदानों और खेल के बुनियादी ढांचे को सुलभ बनाने के लिए, खेल मंत्रालय ने राष्ट्रीय और राज्य के खेल संघों, लीग और सरकारी स्वामित्व वाली सभी खेल सुविधाओं में खेल प्रतियोगिताएं आयोजित करने के लिए क्लब नि:शुल्क हैं.

वर्तमान में साई स्पोर्ट्स अथॉरिटी केंद्रों में 27 खेल विषयों में 4269 लड़कियों सहित 14236 प्रतिभाशाली खेल व्यक्तियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है. इसके अलावा, महिलाओं को अनुकूल वातावरण प्रदान करने के लिए साई ने विशेष रूप से बादल (पंजाब), धर्मशाला (हिमाचल प्रदेश) और मेडिकेरी (कर्नाटक) में महिला खेल व्यक्तियों के लिए तीन साई प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किए हैं.

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful