सोनिया की बैठक से सियासी डिस्टेंस बना रहीं BSP-SP

कोरोना संकट और लॉकडाउन के चलते भारतीय राजनीति में आई खामोशी अब टूटने लगी है. मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में कई विपक्षी दलों की आज यानी शुक्रवार को शाम तीन बजे बड़ी बैठक होने जा रही है. विपक्ष दलों की इस बैठक में उत्तर प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दल सपा और बसपा ने सियासी डिस्टेंस बनाए रखा है. ऐसे में सवाल उठता है कि उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी की राजनीतिक सक्रियता के चलते तो कहीं अखिलेश यादव और मायावती विपक्षी दल की बैठक से दूरी नहीं बना रहे हैं.

बता दें कि मायावती कई मौकों पर विपक्ष की ऐसी बैठकों में अपने प्रतिनिधि के तौर पर राज्यसभा सदस्य और बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा को भेजती रही हैं. लेकिन इसबार उन्होंने बैठक में भाग लेने से ही इनकार कर दिया है. ऐसे ही सपा भी विपक्षी दलों की बैठक में हमेशा शामिल होती रही है. सपा प्रमुख अखिलेश यादव खुद के बजाय सपा महासचिव रामगोपाल यादव को पार्टी प्रतिनिधि के तौर पर भेजते रहे हैं. इस बार बदले हुए सियासी माहौल में सपा-बसपा कांग्रेस की बैठक का हिस्सा नहीं बनेंगे.

लॉकडाउन के बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश में सक्रिय होकर योगी सरकार ही नहीं बल्कि सपा और बसपा जैसे दलों को भी बेचैन कर दिया है. कोरोना संकट के दस्तक के साथ ही प्रियंका गांधी लगातार सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखने से लेकर तमाम मामलों को ट्वीट कर सरकार पर सवाल उठा रही हैं. प्रियंका ने घर वापसी करने वाले मजदूरों के मुद्दे पर हमलावर रुख अपना कर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी जैसी क्षेत्रीय पार्टियों को पीछे छोड़ दिया है.

प्रियंका गांधी पैदल घर जाने वाले श्रमिकों के लिए अपनी ओर से 1000 बस चलाने की पेशकश कर योगी सरकार से दो-दो हाथ कर चुकी हैं. योगी सरकार ने भले ही बसों को यूपी में एंट्री न दी हो, लेकिन कांग्रेस मजदूरों के मन में कहीं ना कहीं जगह बनाने में जरूर कामयाब रही. जबकि, इस दौरान सपा और बसपा पूरी तरह सीन से गायब थीं. बीजेपी और योगी आदित्यनाथ ने अपने बयानों और कदमों से निश्चित तौर पर प्रियंका को सुर्खियों में आने में मदद की है. कांग्रेस इस तरह से धीरे-धीरे सूबे में विपक्ष का चेहरा बनती जा रही है.

उत्तर प्रदेश में प्रवासी श्रमिकों के लिए बस चलाने की पेशकश हो या सोनभद्र में जमीन मामले को लेकर हुआ नरसंहार, उन्नाव में रेप पीड़िता को जलाने का मामला हो या फिर सीएए के खिलाफ प्रदर्शन में पुलिसिया कार्रवाई, पीड़ितों की आवाज उठाने में प्रियंका सबसे आगे नजर आई हैं. ऐसे में सपा और बसपा को अपनी सियासी जमीन खिसकती नजर आ रही है, क्योंकि प्रियंका गांधी दलित, आदिवासियों से लेकर मुसलमानों के बीच अपनी पैठ बनाने में जुटी हैं.

कांग्रेस महासचिव व उत्तर प्रदेश की पार्टी प्रभारी प्रियंका गांधी मिशन 2022 के फोकस पर हैं. ऐसे में सपा और बसपा भी बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस से दूरी बनाकर रखना चाहते हैं. प्रियंका गांधी जब से उत्तर प्रदेश की प्रभारी बनी हैं तब से कांग्रेस बसपा अध्यक्ष मायावती के निशाने पर आ गई हैं. सोनभद्र से लेकर उन्नाव और अब बस विवाद पर मायावती ने कांग्रेस पर सवाल खड़े किए हैं. ऐसे ही सपा प्रमुख अखिलेश यादव भी कांग्रेस पर हमला करने से नहीं चूकते हैं.

मायावती ने ट्वीट कर कहा है कि राजस्थान की कांग्रेसी सरकार द्वारा कोटा से करीब 12000 युवा-युवतियों को वापस उनके घर भेजने पर हुए खर्च के रूप में यूपी सरकार से 36.36 लाख रुपए और देने की जो मांग की है, वह उसकी कंगाली व अमानवीयता को प्रदर्शित करता है. साथ ही कहा कि कांग्रेसी राजस्थान सरकार एक तरफ कोटा से यूपी के छात्रों को अपनी कुछ बसों से वापस भेजने के लिए मनमाना किराया वसूल रही हैं तो दूसरी तरफ अब प्रवासी मजदूरों को यूपी में उनके घर भेजने के लिए बसों की बात करके जो राजनीतिक खेल खेल कर रही है यह कितना उचित व कितना मानवीय?

राजनीतिक पंडितों की मानें तो बसपा और सपा इसलिए सोनिया गांधी के नेतृत्व में होने वाली विपक्षी दलों की बैठक का हिस्सा नहीं ले रही हैं, क्योंकि यूपी में कांग्रेस उनके लिए नई चुनौती बनती जा रही है. ऐसे में सोनिया की अगुवाई वाली बैठक में शामिल होकर सपा-बसपा यह राजनीतिक संदेश नहीं देना चाहते हैं कि वो कांग्रेस के पिछलग्गू हैं.

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful